Pakistani Movie Jago Hua Savera Dropped from Jio Mami Festival

उरी में हुए आतंकी हमले के बाद भारत-पाक के बीच चल रहे तनाव का बहुत गहरा असर बॉलीवुड पर पडा है। बॉलीवुड दो भागो में बट गया है। कुछ कलाकार पाक कलाकारों के समर्थन में बोल रहे है और कुछ उनके खिलाफ।

महाराष्ट्र की राजनयिक पार्टियों ने उन फिल्म मेकरो के नाक में दम कर रखा है, जिन्होंने पाकिस्तानी कलाकरों को लेकर फिल्म बनाई है। करन जौहर भी उन फिल्म मेकरो की लिस्ट में शामिल है, जिस पर मनसे पार्टी विरोध की बरसात कर रही है। कुछ देर पहले ही मनसे पार्टी ने मल्टीप्लेक्स थियेटर चलाने वालो को धमकी दी है कि, अगर उन्होंने फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ को रिलीज किया तो उनके थियेटर का शीशा तोड दिया जाएगा। बतादे कि ‘ऐ दिल है मुश्किल’ करन जौहर की फिल्म है और इस फिल्म में पाकिस्तान के कलाकार फवाद खान ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

हिन्दुस्तान में पाकिस्तानी कलाकारों का विरोध इतना बढ़ गया है कि, इसका प्रभाव मुंबई में होने वाले मामी फिल्म फेस्टिवल पर पडा है। मामी मुंबई फिल्म फेस्टिवल में पाकिस्तानी क्लासिक फिल्म ‘जागो हुआ सवेरा’ नहीं दिखाने का फैसला किया है। मुंबई में यह फेस्टिवल 20 अक्टूबर से शुरू हो रहा है। पहले इस फिल्म फेस्टिवल में पाकिस्तानी फिल्म ‘जागो हुआ सवेरा’ को शामिल किया गया था। लेकिन एक स्थानीय एनजीओ ‘संघर्ष’ ने फिल्म के प्रदर्शन पर विरोध जताया और इसके प्रदर्शन को रोकने को कहा है। इसके बाद फिल्म फेस्टिवल में इस पाकिस्तानी फिल्म को नहीं दिखाये जाने का फैसला लिया गया है।

‘संघर्ष’ एनजीओ ने फेस्टिवल के आयोजकों पर राष्ट्रवादी भावनाओं के संग खिलवाड़ करने का आरोप लगाया था। मामी फेस्टिवल में इस फिल्म को ‘रिस्टोर्ड क्लासिक’ वर्ग में दिखाया जाना था। 1958 में बनी यह फिल्म ‘जागो हुआ सवेरा’ को 1960 के ऑस्कर अवार्ड में सर्वेश्रेष्ठ विदेशी भाषा वर्ग श्रेणी में नामांकित किया गया था। इस फिल्म में बांग्लादेश के मछुवारों की कहानी कही गई है।