Ravina-Tandon-says-Bollywood-actors-also-have-tendensy-for-suicide

रवीना टंडन भले ही आज बॉलीवुड में कम फिल्मों में काम करती हैं लेकिन अपने तर्क वो सही लोगों तक पहुचाने में नहीं हिचकिचाती हैं। उन्हें लगता हैं कि आम लोगों की तरह बॉलीवुड के सितारों में एक बार ऐसी फीलिंग आती हैं जब उन्हें ख़ुदकुशी करने का मन करता हैं। ख़ासकर यह तब होता हैं जब वो किसी बात को लेकर काफी डिप्रेस होते हैं और डिप्रेशन उनके मन में घर कर लेता हैं।[इसे भी पढ़ें: सुनील अपने बेटे अहान का साथ ना देकर करना चाहते हैं बेटी अथिया के साथ काम]

डिप्रेशन पर लिखी एक किताब के लांच पर पहुंची रवीना ने इस बात का खुलासा किया ”आम आदमी की तरह इंडस्ट्री के कई सितारे भी डिप्रेशन के इस कमज़ोर घडी से गुजरते हैं।  सफलता के बाद जब असफलता का दौर शुरू होने लगता हैं, तो बॉलीवुड या इंडस्ट्री का बड़े से बड़ा सितारा भी डिप्रेशन के चपेट में आ जाता है। हर कोई हमेशा खुश नहीं रह सकता हैं। और जो इस स निराश होता हैं, तो उनके अंदर भी आत्महत्या करने की भावना घर कर लेती हैं और ये हर किसी के साथ होता है फिर वो फिल्म स्टार्स कैसे अछूते रहे। अंजलि छाबरिया की लिखी किताब ‘डेथ इज नॉट द आंसर’ के लांच पर रवीना टण्डन ने डिप्रेशन से परेशान बॉलीवुडका ही पक्ष लिया और कहा की फिल्मों में काम करने वाले स्टार्स भी आम इंसान हो होते हैं। उन्हें भी दर्द होता हैं जैसे की आम लोगों को होता है। बॉलीवुड के स्टार्स को भी डिप्रेशन ने जकड लिया हैं। [इसे भी पढ़ें: सलमान खान से लड़ चुके अरिजीत सिंह ने किया बेहद चौंकानेवाला एलान, फैन्स हो जाएंगे हैरान]

रवीना ने  यह भी बताया कि “देश में इस समय जो आत्महत्या का आंकड़ा दर्ज हुआ हैं , उसमें 10 लोगों में 6 महिलाएं हैं। यह बेहद गंभीर मुद्दा है और इसका गंभीरता से समाधान भी किया जाना चाहिए।”फिलहाल, रवीना टंडन फिल्मों में कम दिख रही हैं। उन्होंने रणबीर कपूर की ‘बॉम्बे वेलवेट’ में एक छोटा सा रोल किया था। रवीना बॉलीवुड में अपनी पारी को बड़ी ही बखूबी से खेल चुकी हैं। अब वो ज्यादातर वक़्त अपने बच्चों के साथ गुजारती हैं।